spot_img
26.6 C
New York
Tuesday, October 3, 2023

Buy now

Advertise

spot_img

35 दिन से धरना पर राजभवन के समक्ष डटे हैं स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अनुबंध कर्मी

पुलिस ने रोकी स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अनुबंध कर्मियों की निंदा यात्रा

हाइलाइट्स

  • स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) कर्मियों के आंदोलन का आज 35 वा दिन…..
  • स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) अनुबंध कर्मियों ने सरकार के विरोध में निकाला “निंदा यात्रा”
  • पुलिस प्रशासन ने निंदा यात्रा में शामिल अनुबंध कर्मियों को आगे जाने से रोका

News4public Ranchi :-स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण झारखंड राज्य के 522 कर्मियों की सेवा अनुबंध समाप्त कर पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने सभी कर्मियों को बेरोजगार कर दिया है ऐसा कहना है संघ के महासचिव कौशर् आजाद जी का।
उन्होंने कहा कि राज्य के युवा मुख्यमंत्री होते हुए युवाओं को युवा मुख्यमंत्री के लिए “छि-छि” का नारा लगाना अपने आप में कई सवाल खड़ा करता है लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री ने युवाओं की ऐसी हालत कर दी है की युवा विवश होकर मुख्यमंत्री के साथ-साथ मंत्री के नाम का भी “छि-छि” का नारा लगाते हुए देखे गए।

उपस्थित कर्मियों में एसबीएम जी के महिला सहकर्मी प्रभावती तिवारी ने जानकारी देते हुए बताया कि हम लोग बीते 12 वर्षों से विभाग की सेवा करते आ रहे हमलोगों की मांग कहीं से भी असंवैधानिक नहीं है।
ना ही हमलोग कर्मी का वेतन बढ़ोतरी की मांग कर रहे हैं और ना ही पेंशन की मांग कर रहे हैं और ना ही स्थायीकरण की मांग कर रहे हैं। कर्मी रोमा कुमारी ने बताया कि सिर्फ योजना विस्तार अवधि तक ही अपनी सेवा का विस्तार हो जाए लेकिन इसके बावजूद भी सरकार के द्वारा युवाओं की इस सहज मांग पर विचार नहीं करना कहीं ना कहीं उनकी संवेदनशीलता पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करता ही है।

निंदा यात्रा के क्रम में प्रशासन ने रोका आंदोलनकारियों का रास्ता निंदा यात्रा में चल रहे आंदोलनकारियों को राजभवन के समीप थोड़ी ही दूर पर पुलिस प्रशासन के द्वारा रोका गया एवं आगे जाने की अनुमति नहीं दी गई इसके बाद आंदोलनकारी और उग्र हो गए एवं हेमंत सोरेन कि छि-छि तथा मिथिलेश ठाकुर छि-छि के नारों से सड़क गूंज गया।

निंदा यात्रा के विषय में विशेष जानकारी देते हुए संघ के सहायक मीडिया प्रभारी अनुज श्रीवास्तव ने बताया कि एक तरफ सरकार लाखों की संख्या में लोगों को संबोधित करते हुए अनुबंध कर्मियों के साथ वार्ता कर उनकी समस्या का समाधान ढूंढने की बात करती है जबकि दूसरी तरफ 35 दिनों से लगातार आंदोलनरत एसबीएमजी कर्मियों की सुधि तक लेने को तैयार नहीं होती है जो यह दर्शाता है कि इनकी प्रशासनिक रवैया दोहरी चरित्र वाली है। जबकि मुख्यमंत्री के साथ वार्ता को लेकर मुख्यमंत्री सचिवालय कार्यालय में भी लिखित रूप से मिलने हेतु आवेदन दिया जा चुका है।
निंदा यात्रा को संबोधित करते हुए एसबीएम कर्मी विश्वनाथ साहनी जानकारी देते हुए बताया कि सरकार अपनी मर्यादा खो चुकी है नौजवान मुख्यमंत्री के होते हुए नौजवानों को सड़क पर आकर नौजवान मुख्यमंत्री के लिए छि-छि बोलना अपने आप में शर्म की बात है।

निंदा कार्यक्रम के दौरान संघ के मीडिया प्रमुख आशीष यादव ने बताया कि सरकार को इस यात्रा के माध्यम से हम लोग सचेत करना चाहते हैं कि अभी भी आप अभिलंब 35 दिनों से चल रहे धरना प्रदर्शन कार्यक्रम को वार्ता कर हमारी मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार करें जब देश के सभी राज्यों ने एसबीएमजी कर्मियों का समायोजन केंद्र के दिशा निर्देश के आलोक में कर दिया है तो आपको भी चाहिए कि केंद्र के दिशा निर्देश के आलोक में सभी कर्मियों का समायोजन कर दिया जाए ताकि सभी कर्मी गन अपने अपने कार्यों में पुनः वापस जा सके।।
निंदा यात्रा कार्यक्रम को सफल बनाने में एसबीएमजी कर्मी प्रियरंजन घोष वासु सहा अनुज श्रीवास्तव आशीष यादव रोमा कुमारी संतोषी कुमारी उषा कुमारी टिकेश्वर साहू के साथ-साथ कई अन्य कर्मी कल उपस्थित थे।

 

राजभवन के सामने पिछले 35 दिनों से स्वच्छ भारत मिशन (SBM) ग्रामीण के अनुबंधकर्मी अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे हैं. सोमवार को इन लोगों ने राजभवन से अल्बर्ट एक्का चौक तक निंदा यात्रा निकालने की कोशिश की. पर प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों को राजभवन से थोड़ी दूर आगे बढ़ने पर ही रोक दिया. आगे जाने की अनुमति नहीं दी. इससे गुस्साये प्रदर्शनकारियों ने सीएम हेमंत सोरेन और मंत्री मिथिलेश ठाकुर के खिलाफ नारे लगाने लगे.

सरकार हमारी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करे

निंदा यात्रा के दौरान संघ के मीडिया प्रमुख आशीष यादव ने बताया कि सरकार को इस यात्रा के माध्यम से हमलोग सचेत करना चाहते हैं कि वार्ता कर हमारी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाये. जब सभी राज्यों ने एसबीएमजी कर्मियों का समायोजन केंद्र के दिशानिर्देश के आलोक में कर दिया है, तो झारखंड के भी सभी कर्मियों का समायोजन कर दिया जाये.  निंदा यात्रा कार्यक्रम में एसबीएमजी कर्मी प्रियरंजन घोष, वासु साहा, अनुज श्रीवास्तव, आशीष यादव, रोमा कुमारी, संतोषी कुमारी, उषा कुमारी, टिकेश्वर साहू के साथ कई अन्य कर्मी शामिल थे.

क्या है मामला

राज्य भर के 522 एसबीएम कर्मियों के अनुबंध को 31 दिसंबर 2021 से समाप्त कर दिया गया है. जिस कारण ये सभी बेरोजगार हो गये हैं. इनकी मांग है कि अन्य राज्यों की तरह झारखंड में भी एसबीएम कर्मियों को पुनः बहाल किया जाये.  ये लोग अपनी मांग को लेकर के पिछले 35 दिनों से राजभवन के सामने धरना पर बैठे हैं. इस बीच इन्होंने मुख्यमंत्री से भी मिलना चाहा, पर इनकी मुलाकात नहीं हो पायी.

देश दुनिया की तमाम ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के देखते रहें विश्वसनीय हिंदी News वेबसाइट News4public ब्रेकिंग News हिंदी में सबसे पहले पढ़ें | आज की ताजा खबर, Live न्यूज अपडेट

आप भी बन सकते हैं 1 Day रिपोर्टर यदि आपके आस पास भी कोई अप्रिय घटना घटी है, या कोई गड़बड़ी हो रही है जिसकी जानकारी आपके पास है इस No पर 9470129017 न्यूज और वीडियो भेजें | या ईमेल करें News4public21@news4public21gmail.com|

News4public के लिए Jyoti Yadav की रिपोर्ट :-

ADVT
ADVT.

.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,878FollowersFollow
21,200SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles